भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Philosophy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

Revelatory Definition

ज्ञापक परिभाषा
एस. एफ. बार्कर (“दि एलीमेन्ट्स ऑफ लॉजिक” के लेखक) द्वारा ऐसी परिभाषा के लिए प्रयुक्त पद जो न तो शब्द के भाषा में पहले से प्रचलित अर्थ को बताती है और न वक्ता के द्वारा उसे दिया हुआ कोई नया अर्थ बताती है, बल्कि उसके द्वारा व्यक्त वस्तु की किसी ऐसी विशेषता की ओर ध्यान खींचती है जिसे वक्ता विशेष महत्त्व की समझता है, जैसे, “स्थापत्य” की यह परिभाषा कि वह “हिमीभूत संगीत” है।

Reverence

श्रद्धा
धार्मिक संदर्भ में ईश्वर, देवी-देवता व आप्त पुरूषों के प्रति आदर और विश्वास का सूचक, एक भाषा विशेष। कांट के दर्शन में नैतिक नियम के प्रति एक मानवीय भाव।

Revisionism

संशोधनवाद
विशेषतः एक आंदोलन जो मूल मार्क्सीय समाजवाद में किन्हीं बातों में शोधन करवाने के लिए (जैसे, क्रांति के प्रत्यय को मूल कार्यक्रम से हटवाने के लिए) कुछ समाजवादी क्षेत्रों में चल पड़ा है।

Revivalism

पुनरूद्धारवाद, पुनरूत्थानवाद
अतीत की अथवा ऐसी बातों को जो कालान्तर में अनुपयोगी समझकर छोड़ दी गई है, पुनः चलाने का प्रयत्न अथवा इसकी प्रवृत्ति।

Ridiculous Hypothesis

हास्यास्पद प्राक्कल्पना
ऐसी प्राक्कल्पना जो तथ्यों की हास्यास्पद व्याख्या प्रस्तुत करे, जैसे पृथ्वी शेषनाग के फण के ऊपर स्थित है।

Right

1. अधिकार : वह वस्तु जिसका कोई नैतिक या कानूनी रूप में दावा कर सकता है, समाज के द्वारा स्वीकृत दावा। (स.)
2. उचित, सत् : किसी नैतिक मानक या सिद्धांत के अनुसार (कर्म इत्यादि)। (वि.)

Righteousness

धर्मपरायणता, नीतिपरायणता
मनुष्य की स्वभावगत, वह श्रेष्ठ विशिष्टता जिसके फलस्वरूप, वह जीवन में नीति और धर्म का आचरण करता है।

Rigorism

कठोरतावाद, निग्रहवाद
वह मत कि नियम का आचरण में कठोरता से पालन किया जाना चाहिए, उसमें कोई शैथिल्य या अपवाद नहीं आने देना चाहिए, अथवा नैसर्गिक इच्छाओं, प्रवृत्तियों और भावनाओं का निग्रह करना चाहिए।

Rite

कर्मकांड
परंपरागत रूप से स्वीकृत कर्मानुष्ठान। यथा चूड़ाकर्म आदि।

Ritualism

कर्मकांडवाद, धर्मविधि
1. विभिन्न धर्मों की वह मान्य संहिता, जो उक्त धर्म के बाह्य पक्ष को नियंत्रित और निर्देशित करती है।
2. कतिपय धर्मों (जैसे मीमांसा) की वह मान्यता, जिसके अनुसार शास्त्र प्रतिपादित/निषिद्ध कर्मों के फलस्वरूप ही सुख, स्वर्ग अथवा नरक प्राप्त होते हैं।

Romanticism

रूमानीवाद
हेगेल के पश्चात फ्रांसीसी दर्शन की एक विधा। इस दर्शन में संस्थागत नियम आदि की कट्टरता के विपरीत, मानवीय संवेदनाओं एवं इच्छाओं पर बल दिया गया है।

Rule Of Faith

आस्था-व्यवस्था
आस्था का वह स्वरूप जिसके अनुसार धर्म विषयक शब्द आप्त कोटि के स्वीकार किये जाते हैं, एवम् नास्तिकता की प्रवृति को हतोत्साहित किया जाता है।

Rule-Utilitarianism

नियम-उपयोगितावाद
उपयोगितावाद का एक प्रकार जो प्रत्येक अलग-अलग कर्म के परिणामों पर विचार न करके कर्म के प्रकार, अथवा इस तरह के सामान्य नियम के, जैसे “वचन का पालन करो” के, परिणामों पर विचार करके उसके औचित्य या अनौचित्य का निर्णय करता है। दूसरे प्रकार की जानकारी के लिए देखिए – “act-utilitarianism”।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App